IPL

Hanso Hansao Khoon Badhao

101 Posts

2965 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 652 postid : 1471

जे.जे.ब्लॉगर्स पर व्यंग के बाउंसर्स (हैप्पी न्यू ईअर)

Posted On: 16 Jan, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

VKB

नमस्कार, आदाब सतश्रीकाल मैं सचिन देव नए वर्ष मैं अपने फुल्ली फालतू एस डी चैनल पर आप सभी साथियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ, इस सूचना के साथ के आज से हम अपने चैनल पर एक नया प्रोग्राम शुरू करने जा रहे हैं जिसका नाम है व्यंग के बाऊंसर जिसमे मैं, सचिन देव मंच से जुडी ख़बरों और मंच से जुड़े लोगों पर अपने व्यंग के घातक बाऊंसर फेकूंगा इस वैधानिक चेतावनी के साथ की यदि मेरे इन बाऊंसर से कोई ब्लोगर टूट – फूट जाए, तो उसके लिए मैं और सिर्फ मैं पूर्णत उत्तरदायी हूँ और ऐसे किसी भी घायल ब्लौगर को यह संवैधानिक अधिकार है कि वह मेरे विरुद्ध किसी भी अदालत मैं अपील कर सकता है ! तो आइये इसी वैधानिक चेतावनी के साथ हम शुरू करते हैं अपना ये नया प्रोग्राम जिसका नाम है व्यंग के बाऊंसर ……..

**************************************************************************************************************************************

साथियों सुनने मैं आया है कि हमारे मंच के एक साथी संदीप कौशिक जी आजकल बड़े परेशान हैं और उनकी परेशानी कि बजह ये है की वे जिस भी आलेख पर कमेन्ट देते हैं वह स्पैम मैं चला जाता है, इस बाबत जब हमारी खोजी टीम ने खोज की तो इसका राज पता चला की सीनियर्स के पोस्ट पर यदि टाइम पर कमेन्ट नहीं दोगे तो ऐसा ही होगा यार ! हम अपने एस डी चैनल के माध्यम से जे जे से ये विनम्र अनुरोध करते हैं कि इनकी समस्या का शीघ्रातिशीघ्र समाधान करे ताकि ये वक्त पर कमेन्ट कर सकें, धन्यबाद !

***************************************************************************************************************************************


अगली खबर निशा मित्तल जी के बारे मैं है सुनने मैं आया है कि जिस कक्षा मैं निशा जी पढाती हैं उसके पचहत्तर प्रतिशत बच्चे फेल हो गए, काफी मशक्कत के बाद हमारे खोजी दस्ते ने ये राज खोज निकाला कि ऐसा क्यों हुआ, अरे भैय्या जब निशा जी सारा दिन जे जे के ब्लॉग पढ़ेंगी तो बच्चों को कब पढाती होंगी भाई ……

***************************************************************************************************************************************

सुनने मैं आया है कि रौशनी धीरजी आजकल जो कविता कर रही हैं उस पर कई लोगो ने ये प्रतिक्रिया दी कि वे काफी उदासी मैं कविता लिखती हैं ! ये जानने के लिए जब हम रौशनी जी से मिले और इस बाबत पूछा तो रौशनी जी भड़क पड़ीं बोली ओए कौन बोला तैनू कि अस्सी उदास रेह्न्दे हैं अस्सी तो बड्डे मस्त मौला हैं जी … !
फिर आप ऐसी कविता क्यों लिखती हैं ?

“उड़ने लगती हूँ बिना पंखो के मै यूँ ही,
वो हवा सा जब भी गुजर जाता है पास से…..
एक दिन मिल जाते है बिछड़े हुए सभी,
ए–काश वो भी मिल जाये इसी इत्तेफाक से…..”


अच्छा वो, ओए सचिन देव तुस्सी समझया नहीं इस लाइन द मतलब, मैं तुस्सी सम्झांदी आं, दरअसल गल ई है जी की जे जे का एक मित्र मेरे से पैसे उधार लेकर गायब हो गया है, और मैं उसे ढूंढ रही हूँ जिस दिन भी इत्तेफाक से वो मुझे मिल गया ते मैंने इतनी जूतियाँ लगानी हैं उसमे कि मुआ बिना पंख के ही हवा मैं उड़ता फिरेगा !

ओह तो ये बात है, अरे रौशनी जी जब आप तारों का कारोबार करोगी, और इनकम पर टैक्स नहीं भरोगी तो कोई न कोई तो पैसे लेकर भागेगा ही न ……

***************************************************************************************************************************************


दोस्तों जिस दिन से मैंने डॉक्टर सूरज बाली की एक रचना पढ़ी उसी दिन से बड़ा परेशान सा हूँ ….

ग़म-ए-ज़िंदगी से डरके मैं रोया कभी नहीं॥
अश्क़ों से अपने गाल भिगोया कभी नहीं॥
ख़ुशबू बदन की उसके ना उड़ जाये इसलिए,
बिस्तर की अपने चादरें धोया कभी नहीं॥

और तभी से सोच रहा हूँ कि आखिर डॉक्टर बाली ने चादरें धोई क्यों नहीं ? आखिरकार हमारे खोजी दस्ते ने इसका भी राज खोज निकाला कि डॉक्टर साहब ने ऐसा क्यों किया ! दरअसल इनकी महबूबा सुबह जल्दी उठकर चली गई थी, और उस दिन काम वाली बाई भी नहीं आई फिर ये चादर धोता कौन भाई ? डॉक्टर साहब प्लीस चादर धुलवा लीजिए वर्ना डॉक्टर बाली से आप डॉक्टर एक चादर मैली सी हो जायेंगे भाई !

***************************************************************************************************************************************

सुनने मैं आया है की हमारे मंच के एक साथी जो की आजकल कल्पनावादी और यथार्थवादी लेखकों पर शोध कर रहे हैं, जब काफी मशक्कत के बाद भी ये फैसला नही कर पाए की टिम्सी मेहता कल्पनावादी लेखिका हैं या यथार्थवादी तो वे सीधे जा पहुंचे टिम्सी मेहता जी के घर खुद उनसे पूछने के लिए ! और जब उन्होंने गुनगुनी धूप सेंकती टिम्सी मेहता जी से ये सवाल किया तो उन्होंने कहा देखिये न मैं कल्पनावादी हूँ, और न ही मैं यथार्थवादी हूँ, मैं तो जी बस रचनात्मकवादी हूँ ! इसे कहते हैं असली रचनात्मकता, रचनात्मकता का झुनझुना देकर ये तो दोनों मैं शामिल हो गई भाई !

***************************************************************************************************************************************

हमारे न्यूज चैनल को मंच के हमारे अहम साथी अशोक रक्तले जी के बारे मैं एक बहुत ही अहम जानकारी मिली है और जानकारी यह है की रक्तले जी की सेविंग किसी अन्य ब्लोगर्स से 250/- प्रतिमाह अधिक है, और सबसे आश्चर्यजनक बात ये है की इनकी ये सेविंग बिना सेविंग किये हो रही है ! अब आप सोच रहे होंगे वो कैसे ? तो वो ऐसे यदि आज आप किसी भी सेलून मैं सेव बनवाते हैं तो एक बार मैं सेविंग के 25/- रुपये लगते हैं, और यदि आपने महीने मैं दस बार सेव बनवाई तो आपका खर्चा 250/- हुआ ! और भैय्या जब रक्तले जी सेविंग करवाते ही नहीं तो हुईं न बिना सेविंग किये सेविंग !

***************************************************************************************************************************************


सुनने मैं आया है की हमारे मित्र अबोध बालक जी अगले चुनाव मैं पियूष पन्त जी के आह्वान के बाद भी अपने मत का दान नहीं कर पाएंगे ! वो क्यों ? अरे भैय्या हमारे देश मैं नाबालिगों को मतदान करने का अधिकार जो नहीं है भाई !

***************************************************************************************************************************************


दोस्तों अभी हाल ही मैं हमारे मनोरंजक साथी मनोरंजन ठाकुर जी को जे जे ने श्रेष्ठ ब्लोगर्स ऑफ द वीक करार देते हुए उनको जे जे के फ्रंट पेज पर लटका दिया ! और जैसा कि आप जानते ही हैं कि आजकल हमारे देश मैं जबरदस्त ठण्ड पड़ रही , और इतने ठण्ड मैं टंगे टंगे मनोरंजन जी की हालत जब चाय मैं डूबे बिस्किट जैसी खराब हो गई तो ये रात को लगभग 3 बजे अचानक जे जे से तस्वीर सहित गायब हो गए और ठण्ड मैं ठिठुरते हुए जे जे के ओफ्फिस मैं पहुंचे चाय पीने के लिए, इन्हें देखते ही वहाँ मौजूद जे जे मंडल के एक अधिकारी ने इनसे पूछ ही लिया !

आओ ठाकुर आओ अभी तक ???????? हो !
और ये बोले चाय पिलाते हो तो रुकता हूँ वर्ना मैं चला अपने घर !

***************************************************************************************************************************************

हमारे चैनल को उडती – उडती खबर मिली है कि राजकमलजी ने जो रक्षा धागा पहना था उसे किसी जिन्नी ने तोड़ दिया है और राजकमल जी को जिन्नी अधिकृत कश्मीर बना डाला है ! और आजकल जो राजकमल जे जे पर दिखाई दे रहे हैं वे असली नहीं हैं उन पर कोई भयानक प्रेत्तात्मा का साया है ! वो कैसे ? अरे भैय्या वो ऐसे, कि जो राजकमल तीन दिन मै एक ब्लॉग लिखता था वो तीस दिन मैं सिर्फ एक ब्लॉग  लिखे तो हुआ न नकली  राजकमल !

***************************************************************************************************************************************

जबसे उत्तर प्रदेश मैं चुनाव घोषित हुए हैं तबसे  हमारे मित्र राजेंद्र रतूरी जी काफी व्यस्त हैं, और अपनी इसी व्यस्तता के चलते आजकल  जे जे पर  दिखाई भी नहीं देते, क्योंकि मायावती जी को किसी ने ये बात बता  दी कि इन्होने  जे जे पर हाथी बचाओ मुहीम चला रखी है, बस फिर क्या था उसी दिन से मायावती जी ने इन्हें अपने पर्सनल सचिव का कार्यभार सौंप दिया ! क्यों ? अरे भैय्या मायावती जी का हाथी भी तो आजकल खतरे मै है न !

***************************************************************************************************************************************

लंबे समय से हमारे साथी वाहिद काशीवाशी मंच पर जल्वानुमा नहीं हो रहे हैं, और जब हमारे संवाददाता  ने इस सम्बन्ध मैं उनसे बात कि तो उन्होंने बताया की उन्होंने ख्वावों की जो फसल लगाईं थी, वह पककर लगभग तैयार है और  अब उसे काटने का वक्त आ गया है, जैसे ही फसल कट जायेगी वह फिर से कुछ नए ख्वावों के बीज और ख्यालों की खाद लेकर जे जे के खेत मैं उपस्तिथ होंगे !

***************************************************************************************************************************************

सुनने मैं आया है कि करवा चौथ वाले दिन शाही जी की कॉलोनी की दर्जन भर व्रतधारी पतिव्रताओं ने शाही जी को चारों  ओर से घेर लिया , इन गोपियों के बीच घिरे कन्हैय्या ( शाही जी ) इससे पहले की कुछ समझ पाते उनमे से एक महिला ने आगे बढ़कर शाही जी से कहा ” भाईसाहब कृपया करके आज रात को आप छत पर मत आना आपको देखकर महिलाओं मैं चाँद निकलने का भ्रम फ़ैल सकता है, जिससे बिना चाँद देखे ही हमारा व्रत टूटने की भारी आशंका है !

***************************************************************************************************************************************

जबसे हमारे साथी शशिभूषण जी को मोस्ट वीऊ ब्लोगर ऑफ द वीक चुना गया है, वे जश्न मैं मग्न हो गए हैं , और जाम पर जाम, जाम पर जाम चढा और चढवा रहे हैं ! और जब हमारी खोजी टीम उनसे मिली और इस बाबत बताया तो, फिर गिरा – उठा – फिर दौड़ पड़ा, गिरा – उठा – फिर दौड़ पड़ा ! करते हुए उन्होंने अंतत रचना रच ही दी ! शुक्र है भगवान का दौड पड़े वर्ना, हमारे चैनल की खबर सुनकर जे जे से उनके अभिन्न मित्र जे एल सिंह जी, और शुक्ल भ्रमर जी चार – छ मुस्टंडे लेकर निकल पड़े थे उन्हें दौडाने के लिए !

***************************************************************************************************************************************

सुनने मैं आया है की भाई संतोषसिंह जी का हुक्का पानी उनकी गाँव की पंचायत ने एक महीने के लिए बंद कर दिया है ! और आश्चर्य की बात ये है की ये फैसला उन्ही के मूरख मंच के भीखू चाचा ने अपने 170 पन्ने के अपने फैसले मैं दिया ! फैसला थोडा लंबा है पूरा आदेश आप हमारी वेबसाइट www.sdnews.com पर पढ़ सकते हैं ! यहाँ हम संक्षिप्त मैं भीखू चाचा का बयान सुनाते हैं जो उन्होंने संतोष जी के विरुद्ध सुनाया है !

“ काय हो संतोष, ये काहे किया रे तू, ससुरा हमरे गाँव का मूरख मंच मैं बईठ के, हमसे अन्ना को चिठिया लिखवाय के, हमरे गाँव का गीत बनाए के बदले , वहाँ लुधियाना शहर का गीत बनाए दिया रे तू , औउर हम सबका मूरख बनात रहा ! ईका सजा तोहका मिलेगी रे संतोष्वा बराबर मिलेगी ! अरे ओ आसरे उतार लो ईका गाँव का वर्दी और पहिना दो ईका लुधियाना का नया कुर्ता ! और उस दिन से संतोष भाई जी नई सज धज के साथ लुधियानवी बने घूम रहे हैं !

***************************************************************************************************************************************

सुनने मैं आया है की नए साल का जश्न मनाने के लिए जागरण मंच की सारी की सारी सम्मानित महिला ब्लोगर्स ने एक जगह एकत्र होने का फैसला किया और उनमे से कुछ नाम ये है

मीनूजी, दिव्याजी, साधनाजी, अलकाजी अमीताजी
तमन्नाजी, सुमनजी, प्रवीनजी रीताजी विनीताजी
अरे ये क्या ये तो बन गई एक अच्छी कविताजी

और जैसे ही ये कविता बनी हमारे आ़लराउंडर जी को ये बात याद आ गई कि पिछले दस दिनों मैं जागरण अखबार मैं एक भी कविता प्रकाशित नहीं हुई बस उन्होंने पिछले सारे अखबार इकट्ठे किये और पहुँच गए जे जे कार्यालय और संपादक जी से पूछा सर ये क्या मैंने जब से आपका विशिष्ट खंड पढ़ना प्रारंभ किया है वहाँ एक भी कविता नहीं छापी आप लोगों ने उनकी ये बात सुनकर, सभी लोग ठहाका लगाकर हंस पड़े बोले अरे महाराज हमारे संपादन मंडल ने आज तक जे जे की कोई कविता पढ़ी ही नहीं थी तो छपती कैसे ?
अरे तो महोदय अब तक पढ़ी काहे नहीं ?
अरे हम से किसी ने कहा ही नहीं !
अरे महाशय अब तो हम सब कह रहे हैं पढ़ लीजिये न !
हाँ तो भई अब आप आये हो, सबकी फ़रियाद लाये हो, तो पढ़ लेते हैं और छाप  देंगे एकाध – ठो कविता भी !


इसी बाउंसर के साथ समाचारों का ये ओवर यहीं समाप्त करते हैं इस कामना के साथ के आने वाला वर्ष मंच से जुड़े सारे साथियों के लिए नई  खुशियाँ लेकर  आये! तो अब आप  इजाजत दीजिये अपने दोस्त और होस्ट सचिन देव को इस  वादे के साथ कि हम फिर हाजिर होंगे कुछ और नई और चटपटी ख़बरों के साथ !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 4.90 out of 5)
Loading ... Loading ...

68 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

suman dubey के द्वारा
January 29, 2012

सचिन जी नमस्कार ,बहुत बढिया है सचिन जी आपके ये जे जे बाऊसन्सर्स बधाई

    allrounder के द्वारा
    January 30, 2012

    आपका हार्दिक धन्यबाद सुमन जी !

baijnathpandey के द्वारा
January 28, 2012

आदरणीय श्री सचिन जी नमस्कार एवं अभिवादन हंसा-हंसा कर रुला देने वाली इन अचूक बौन्सरों के लिए आपका आभार . सरकार गैंडा पूल के बाद आपके बाउंसर्स वाकई खतरनाक हो गए हैं, कहते है न एक बार बौलर ………….बस इतना ध्यान रखियेगा की आपकी भी बैटिंग की पारी आएगी …. फिर कोई न कोई खपा ब्लॉगर आप पर भी बाउंसर फेंकेगा :D … हेलमेट पहनकर आइयेगा . अगली कड़ी का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा वसंतपंचमी की हार्दिक मंगलकामनाएं स्वीकार करें !!!

    allrounder के द्वारा
    January 28, 2012

    नमस्कार भाई बैजनाथ जी, आपको भी बसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनायें ! भाई सही कहा आपने बाउंसर फेंकने वाले पर भी कोई बाउंसर फेंक सकता है इसके लिए अपना हेलमेट और बल्ला सदा तैयार रहता है ! :) :) :)

roshni के द्वारा
January 25, 2012

सचिन जी नमस्कार , अरे मैंने आपको बतया था की कोई पैसे लेकर भाग गया और आपने sd चैनल पे ये खबर दे दी अब तो गए मेरे पैसे भी और जिसे तलाश क्र रही थी वोह भी और ऊपर से income टैक्स न देने की बात भी बता दी सबको .. लगता है कारोबार बंद करवा देगे आप …. खैर अब आप ही हर्जाना भरेगे … हा हहाहाहा…. बहुत खूब लिखा आपने बेहतरीन लाजवाब …….आप के इस तरह के व्यंग का तो मजा ही कुछ और है.. हमेशा इंतज़ार रहता है की कब आप सब ब्लोगेर्स को एक करके उनका interview ले और पोस्ट करे … ये सब कमाल का लिखा आपने … आप ही कर सकते है ये सब बस … ऐसे ही बढ़िया जिंदादिल पोस्ट करते रहिएगा बधाई युही लिखते रहिये बह्दै

    allrounder के द्वारा
    January 25, 2012

    नमस्कार रौशनी जी, आपकी इतनी अच्छी प्रतिक्रिया के बारे मैं, मैं क्या लिखूं ? आपने इतना उत्साहवर्धन कर दिया है कि अगले ६ महीने तक हमारा चैनल यूँ ही चलता रहेगा ! आपने व्यंग को समझा उसको सराहा इसके लिए आपका हार्दिक धन्यबाद रौशनी जी !

jlsingh के द्वारा
January 20, 2012

आदरणीय सचिन भाई, नमस्कार! आप तो allrounder हैं ही अब “मैन ऑफ़ द मैच” बनकर प्रतिक्रियाओं का शतक पूरा कीजिये या द्विशतक लगाइए! आखिर आप की भविष्यवाणी यहाँ तो सत्य होने ही वाली है! इस तरह के हास्य से भरपूर ‘व्यंग्य’ का पुट लिए हुए ‘बाऊंसर’ जिनमे लगभग सभी (’कुछ’ को छोड़कर) ब्लोग्गर्स घिर जाय बहुत ही कम देखने(पढ़ने) को मिलता है. राजकमल साहब ने भी पहले अपने व्यंग्य में काफी ब्लोग्गर्स को शामिल किया था…… आपका अंदाज भी निराला है. आपका S D चैनेल इसी तरह दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की करता रहे, यही दुआ करता हूँ. बहुत बहुत बधाई, एवं आभार!- जवाहर.

    allrounder के द्वारा
    January 20, 2012

    नमस्कार जवाहर लाल जी, आपकी रोचक और बहुमूल्य प्रतिक्रिया के लिए आपका हार्दिक आभार ! :) :)

Gagan के द्वारा
January 19, 2012

सचिन भाई जी नमस्कार, क्या बात है बाउंसर बोंल को भी सही लाइन और लेंथ पर डाली वो भी सारी की सारी, और आप बच भी गये कोई आपकी बाउंसर से घायल भी नहीं हुआ | कही से कोई अप्रिय खबर नहीं | इस के लिय आपको और आपके चैनल को मेरी तरफ से बधाई |

    allrounder के द्वारा
    January 19, 2012

    नमस्कार भाई गगन जी, आपने बाउंसर के लाईन लेंथ को सही करार दिया और नो बाल होने से बचाया इसके लिए आपका हार्दिक आभार ! :) :)

sadhana thakur के द्वारा
January 19, 2012

बहुत मजेदार व्यंग ,चलिए आपके प्रयास से आखिर मेरी रचना पेपर में छप ही गई ,धन्यवाद् …..

    allrounder के द्वारा
    January 19, 2012

    नमस्कार साधना जी, आपकी जो रचना प्रकाशित हुई उसे हमने भी पढ़ा है बेहतरीन रचना और इसके प्रकाशन के लिए आपको बधाई, और आगे भी आप ऐसे ही स्तरीय रचनाओ का सृजन करती रहें इसके लिए शुभकामनायें ! आपने हमारे प्रयास को सराहा और व्यंग आपको अच्छा लगा इसके लिए आपका हार्दिक आभार !

वाहिद काशीवासी के द्वारा
January 19, 2012

फसल काटने ही वाली है सचिन भाई। और हम भी पहुँचने ही वाले हैं। एकाध बोरी आपके लिए भी ले आएँगे। लाजवाब हास्य पर बधाई… :-D

    allrounder के द्वारा
    January 19, 2012

    बहुत – बहुत धन्यबाद वाहिद भाई आपका कम से कम आपने अपनी फसल मैं से एकाध बोरी हमारे लिए भी लाने का वादा किया है, चलो अपना व्यंग लिखने की कीमत तो बसूल हुई :) :)

Harish Bhatt के द्वारा
January 19, 2012

सचिन जी सादर प्रणाम. बहुत शानदार.

    allrounder के द्वारा
    January 19, 2012

    सादर नमस्कार हरीश जी, आपका हार्दिक आभार प्रोत्साहन के लिए !

abodhbaalak के द्वारा
January 19, 2012

सचिन भाई देर से आने के लिए क्षमा , काम के सिलसिले में ओमान से बहार था और नेट के लिए समय …… क्या बाउंसर है भाई मेरे, आशा नहीं यकीन है की काफी लोगो को इसे झेलने में ………… :) ज़बरदस्त……. http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    allrounder के द्वारा
    January 19, 2012

    नमस्कार भाई अबोध जी, भाई देर – सवेर तो चलती रहती है, महत्वपूर्ण बात ये है की आप इस बाउन्सी पिच पर आये और बाउंसर अच्छी तरह से झेल गए उसके लिए आपका हार्दिक आभार ! :) :)

January 18, 2012

आदरणीय सचिन जी, सादर नमस्कार ! बढ़िया बाउंसर….किसी को ‘डक’ करना पड़ा…..तो किसी ने उछलकर दबाने की कोशिश की । पर भाई साहब लीजिये हम तो बैठ ही जाते हैं और जाने दिया विकेटकीपर के पास…..क्या पता बल्ले से टकराकर किस जगह कैच चला जाये !! ;) बहुत बहुत शुक्रिया आपका….कमेन्ट से संबन्धित समस्या के लिए जागरण जंक्शन के प्रति अपील करने के लिए । :)

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    आपका बहुत – बहुत धन्यबाद संदीप जी, क्रिकेटिया कमेंट्री देने के लिए, हालांकि आज भी आपके कमेन्ट को स्पैम मैं से निकालना पड़ा, पर जल्द ही आपकी ये समस्या सुलझ जाए और आप कमेन्ट की तेज बौलिंग कर पायें यही शुभकामनाये आपके लिए :) :)

rajkamal के द्वारा
January 17, 2012

Priy सचिन भाई …… नमस्कारम ! बहुत ही जबरदस्त हास्य वयंग्य है ….. रब्ब ने चाह और आप सभी साथियो की दुआ रंग ले आई तो फिर से एक महीने में कम से कम दस ब्लॉग आप सभी के सामने होंगे ….. शुभकामनाओं के लिए आभार सहित मुबारकबाद

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    हार्दिक नमस्कार राजकमल भाई, भैय्या इसलिए ये बाउंसर आप पर फेंकना पड़ा , ताकि आपका रन रेट थोडा तेज हो ! वैसे भाई आपकी वजह से आखिरी वक्त पर आप पर फेंके गए बाउंसर को थोडा चेंज करना पड़ा :) आपका हार्दिक आभार !

shashibhushan1959 के द्वारा
January 17, 2012

मान्यवर सचिन जी, सादर ! “बहुत भयंकर, बहुत खुरदुरा, नए साल का यह तोहफा ! बहुत चटपटा, बहुत करारा, नए साल का यह तोहफा !!” . हार्दिक बधाई !

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार महोदय , आपका हार्दिक आभार बहुत ही मजेदार बाउन्सरी प्रतिक्रिया के लिए वैसे सर, जाम, वाम का दौर थमा की नहीं ? :)

rita singh 'sarjana' के द्वारा
January 17, 2012

सचिन जी ,रोचक व्यंग ,बधाई ,अगली कड़ी का इंतजार रहेगा l

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    आपका हार्दिक धन्यबाद रीता जी, हमें भी आपके विचारों का सदा इन्तजार रहेगा :)

January 17, 2012

बहुत ही मनोरंजक इस पारी के बाद, आपको मैन ऑफ़ द मैच का खिताब देने से अब कौन इनकार कर सकता है..! बहुत-बहुत बधाई…

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    आपका बहुत – बहुत धन्यबाद पारी को पसंद करने और मैन ऑफ़ द मैच चुनने के लिए, आशा है ऐसी ही पारी कोई भारतीय क्रिकेटर खेले और मैन ऑफ़ द मैच पाए ! :) आपका हार्दिक आभार !

Rakesh के द्वारा
January 17, 2012

Super six :)

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    सुपर थैंक्स :)

munish के द्वारा
January 17, 2012

सचिनजी, वैसे तो आप ऑल राउंडर हैं और सबके ऊपर आपने कास कास कर बाउंसर फैंके ……… लेकिन अच्छे खिलाडियों से सभी घबराते हैं और आप भी घबरा गए…… और हम से कन्नी काट गए……..! सही किया वर्ना हम बाउंसर पर छक्का मार देते

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार भाईसाहब , आपकी रोचक प्रतिक्रिया के लिए ! भाई साहब जब भी आप बाउंसर फेंकते हैं तो छक्का लगने के चांस तो रहते ही हैं, और इसके लिए बॉलर हमेशा तैयार रहता है, और भाईसाहब घबराते तो हम कभी भी और किसी से भी नहीं, और इस बार जितने भी ब्लॉगर्स छूट गए हैं उन पर जल्द ही बाउंसर फेंके जायेंगे, और आप भी उनमे से एक होंगे, तब तक इन्तजार कीजियेगा ! आपका हार्दिक धन्यबाद !

manoranjanthakur के द्वारा
January 17, 2012

भाई आपने मेरे को याद किया बहुत खुशनसीब हु वैसे में तो सोच रहा था चाय के साथ कुछ स्न्नाक्स वगेरह भी लेकिन यहाँ तो बाउंसर की बौछार हो रही है पता नाही टी टाइम कब हो उपर से फुल्ली फालतू एस डी चैनल वाले जेजे ऑफिस तक पीछा कर रहे है कृप्या कुछ चाय बाय का जुगार करवाइए सचिन भाई नहीं तो कही कदम खुद की जगह आपके घर की और न मुर जाय बहुत आभार हा हा हा

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार भाई मनोरंजन जी, भाईसाहब किसी धोखे मैं मत रहना किसी भी वक्त आप जे जे से गायब होंगे हमारे चैनल की तीक्ष्ण निगाओं से बच नहीं सकते ! चिंता मत कीजिये आपके चाय नाश्ते की जुगाड़ भी करवा देंगे, वैसे भी सिर्फ एक दिन की और बात है कल जे जे से आपको छुट्टी मिल जायेगी ! और आप कभी भी हमारे घर आ सकते हैं आपका हार्दिक स्वागत है !

Anita Paul के द्वारा
January 17, 2012

ऑलराउंडर जी, मंच की तमाम महिला लेखिकाओं का तो नाम लिया आपने लेकिन आपसे कुछ छूट तो नहीं गया. अरे ! हम भी हैं कतार में …………..आपकी सुघड़ लेखनी से मेरा नाम भी तो आना था………….जनाब.

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार अनीता जी, क्षमा चाहता हूँ आपने बिलकुल सही फरमाया आपका नाम इस लेख मैं छूट गया है, और वो सिर्फ इसलिए की जे जे की इस फिल्म मैं अक्सर आप कोई आइटम सौंग करती हैं और सारे लोगों को दीवाना करके चली जाती हैं, इसलिए ध्यान से आपका नाम उतर गया, बाबजूद इसके आपकी बेहतरीन प्रतिक्रिया के लिए आपका हार्दिक धन्यबाद !

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    वैसे अनीता जी, इस लेख मैं अवश्य आपका नाम मुझसे छूट रहा है किन्तु मुझे याद आ रहा है की पिछले वर्ष भी मैंने ब्लॉगर्स पर नए साल मैं एक लेख लिखा था उसमे आपका भी छोटा सा रोल था ! मगर उस पर संयोग से आपकी प्रतिक्रिया नहीं आई थी शायद आपने पढ़ा न हो और यदि आप पढना चाहे तो पढ़ सकती हैं उस ब्लॉग का नाम है ” नए साल पर जे जे ब्लॉगर्स का धमाल ” ! आपका हार्दिक आभार अनीता जी !

Amita Srivastava के द्वारा
January 17, 2012

सचिन जी आपका फुल्ली फालतू चैंनल तो फुल्ली कामतू चैंनल है भाई . सबको हसांने व गुदगुदाने वाला . बस ऐसे ही इसकी टी आर पी बढ़ती रहे और मंच पर हंसी की महफिल सजती रहे .

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    सादर नमस्कार अमिता जी, आपकी शुभकामनाओ के लिए हार्दिक धन्यबाद ! आप सब की इन्ही शुभकामनाओं की वजह से हमारा चैनल अक्सर प्रयास करता है साथियों को हंसाने और गुगुदाने का !

mparveen के द्वारा
January 17, 2012

सचिन जी नमस्कार, एक तो सर्दी के मरे बुरा हाल है ऊपर से आप बाउंसर डाल रहे हैं ब्लोग्गर्स का कुछ तो ख्याल रखते . अब पता चला की आपका फुल्ली फालतू चैनेल कहीं भी पहुँच जाता है और सबके राज़ खोल देता है . पर आपसे एक शिकायत है की आपने अपने चैनल पर अभी तक ब्रेअकिंग न्यूज़ शुरू नहीं की हैं तो कब से आप उनका श्री गणेश करेंगे कृपया अवगत कराएँ ….. और आपको बधाई देना चाहते हैं की JJ ने आपके द्वारा लिखे ब्लॉग पर ध्यान दिया और अब कवितायेँ भी अखबार में प्रकाशित होने लगी हैं . आपका बहुत – बहुत धन्यवाद !!!

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार प्रवीण जी, ये बात तो सही कही आपने सर्दी बहुत है ऐसे मैं ब्लॉगर्स पर बाउंसर फेंकना थोड़ी सख्ती है, लेकिन क्या करें जब हमारे चैनल के पास कोई ब्रेकिंग न्यूज़ होगी ही नही तो बाउंसर ही फेंकने पड़ेंगे, आपने शिकायत की है की हमारे चैनल से कोई ब्रेकिंग न्यूज़ प्रसारित की जानी चाहिए, अरे तो प्रवीण जी, ये तो हमारे घर का ही चैनल है आपके पास कोई भी न्यूज़ हो तो हमें मेल कीजिये हम उस न्यूज़ को जगह – जगह से ब्रेक करके, ब्रेकफास्ट मैं उसे पेश कर देंगे ! आपका हार्दिक आभार रोचक और उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए !

vinitashukla के द्वारा
January 17, 2012

इन बाउंसरों के लपेटे में तो बड़े बड़े लोग आ गए. आपकी कल्पनाशीलता की दाद देनी पड़ेगी. अच्छी और रोचक पोस्ट पर बधाई सचिन जी.

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    आपका बेहद शुक्रिया विनीता जी जो आपने हमारी कल्पनाओं की प्रशंशा की ! और फिर बाउंसर जब फिंकते हैं तो इसके आबड़ मैं कोई भी आ सकता है न कोई छोटा न बड़ा ! आपका हार्दिक आभार !

RAJEEV KUMAR JHA के द्वारा
January 17, 2012

वाह ! सचिन जी.मजा आ गया.इसी तरह व्यंग्य के बाउंसर चलते रहिये.

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    आपका बहुत – बहुत आभार राजीव जी ! आप सबका प्रोत्साहन रहा तो अवश्य ही हम ऐसे और भी बाउंसर फेंकते रहेंगे !

nishamittal के द्वारा
January 17, 2012

सचिन जी , आपने मेरे शिष्यों को कमजोर मान अनुतीर्ण करवा दिया लगता है,आपने किसी और की रिपोर्ट देख ली .मेरे शिष्यों को तो पढने की जरूरत नहीं बस सभी मान्यवर ब्लोगर्स के ब्लॉग पढ़कर ही इनसायक्लोपीडिया बने हुए हैं.धन्यवाद मुझको शिक्षिका स्वीकार करने के लिए.

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार आदरणीया निशा जी, आपके पढाये छात्र सारे देश मैं ही नहीं अपितु सारे विश्व मैं आपका नाम रोशन करें यही शुभकामना है मेरी आपके लिए ! बाकी रिपोर्ट तो मैंने सही देखी थी, निशा जी थोडा बहुत ध्यान अपने छात्रों की पढाई पर भी दीजियेगा ! आपका हार्दिक आभार !

akraktale के द्वारा
January 16, 2012

सचिन जी नमस्कार, हमें लगता है आप अभी हमारे सहर के बड़े बाबू परिवहन विभाग के, दरोगा जी और चपरासी भैया नगर निगम वालों से नहीं मिले हो लगता है वरना हमारे दुई सो पचास रुपैया से नाही जलते. इ हमारे सहरवासी सबई के सब करोडपति हैं हममे और इनमे फरक बस इतना है की हमारी दाढ़ी आपको दिखती है और इनके पेट में दाढ़ी है. सुन्दर व्यंगात्मक रचना बधाई.

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार रक्तले जी, भाई साहब सचमुच आपके शहर की तो बात ही निराली है, जिसको देखो करोडपति बना बैठा है , और मेरी आपके लिए भी बस यही कामना है की आप भी जल्द ही उन्नति करके अपने शहर के इन तेजी से बढ़ते करोड़पतियों मैं शामिल हों ! व्यंग की प्रशंशा और आपके रोचक विचारों के लिए हार्दिक धन्यबाद !

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
January 16, 2012

आनंद आ गया . आगे भी लिखते रहिये. आप सचिन जी हैं, आप का ही फोटो लगा है ?

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    सादर नमस्कार प्रदीप जी, आपको आनंद आया ये पढ़कर हमें भी बेहद आनंद आया और आगे अच्छा लिखने का हौसला मिला !

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    प्रदीप जी, मेरा ही नाम सचिन देव है, और इस ब्लौग मैं आपको जितनी भी तस्वीर दिखाई दे रही हैं सब मेरी ही हैं ! इनमे से एक तस्वीर मैं इस लिए कभी – कभी लगा देता हूँ क्योंकि इस तस्वीर से मेरा भावनात्मक जुड़ाव है, ये मेरी पहली तस्वीर है जिसे मैंने जे जे पर अपने ब्लौग और इंटरनेट के बाकी अकौंट्स पर लगाया था, उसके बाद मैंने कई तस्वीर बदली हैं पर इस तस्वीर से मुझे विशेष स्नेह है !

आर.एन. शाही के द्वारा
January 16, 2012

छींटे तो पहले ही सर्दी बढ़ा गए थे, ऊपर से आपने हज़ारे भर-भर कर बौछारें भी उड़ेल दी हैं सचिन जी । पता नहीं होली में क्या-क्या होने वाला है । बच के रहना रे बाबा …। बधाई !

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    शाही जी, नमस्कार भाई साहब सही कहा आपने इन छीटों ने सर्दी तो बेशक बढ़ा, दी और आप बिंदास अपनी पिचकारी से सबको सराबोर कर सकते हैं, किन्तु कृपया करके छत पर मत जाइएगा ! आपका हार्दिक आभार !

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    शाही जी, आपकी होली का राग सुनकर शोले के गब्बर का डायलोग याद आ रहा है ! होली कब है, कब है होली ? :) :)

dineshaastik के द्वारा
January 16, 2012

रोचक एवं मनोरंजक ।

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    आपका हार्दिक धन्यबाद दिनेश जी प्रशंशा के लिए !

minujha के द्वारा
January 16, 2012

सचिन जी नमस्कार क्या कहुं अब मैं,दो बार धन्यवाद करना चाहुंगी,पहला मुझे भी इतनी खुबसूरत रचना में स्थान देने के लिए,दुसरा इतने हास्य-विनोद से भरी रचना से मन हल्का करने के लिए.  बहुत बहुत आभार आपका

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार मीनू जी, आपका भी दो बार धन्यबाद जो आपने हमारी रचना पर अपने उत्तम विचार दिए साथ ही रचना पढ़कर आपके मन का बोझ थोडा हल्का हुआ ये पढ़कर हमारा भी बोझ थोडा हल्का हुआ की चलो भाई बाउंसर ने आपको कोई नुक्सान नहीं पहुँचाया !

January 16, 2012

सचिन भाई अच्छा है । अब सोच रहा हूँ चादर धुलवा ही लूँ लेकिन ये बेमुराद मोहब्बत ऐसा करने ही नहीं देती…..अब तो मैं तुम्हारे लिए यही कहूँगा की…. किसी से प्यार गर तुमको भी हो जाता मज़ा आता। मोहब्बत मे कोई तुमको भी तड़पाता मज़ा आता। अच्छा संकलन और विश्लेषण …. चलो मैं तो कोर्ट नहीं जाता।

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार सूरज जी, आपका बहुत बहुत आभार की आपको बाउंसर झेलने मैं भी मजा आया ! और चादर धुलवाने के लिए भाई हार्दिक आभार आपका, और सर कोर्ट मैं न घसीटने के लिए आपका विशेष धन्यबाद !

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    डॉक्टर साहब आपके प्यारे से शेर पर एक छोटा सा शेर इस नजीज की तरफ से भी …. ” दिल की चोटों ने कभी चैन से सोने न दिया जब चली ठंडी हवा मैंने उसे याद किया ” :) :) :) अदाव अर्ज है !

alkargupta1 के द्वारा
January 16, 2012

सचिन जी , इतना तगड़ा बाउंसर फेंका कि बेचारे हास्य का तो बुरा हाल हो गया…… साथ ही सभी महिला ब्लॉगर्स ने तो बरेली आकर यहाँ नए साल के जश्न में जो धमाल मचाया कि पुरुष ब्लॉगर्स भी जश्न में बरेली के झुमकों का आनंद लेने के लिए बड़ी फुर्ती से आ धमके……..विनोदप्रिय हास्य रचना के लिए बधाई

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार आदरणीय अलका जी, आप महिला ब्लॉगर्स ने जो बरेली मैं धमाल मचाया उसके लिए आप सब बधाई की पात्र है ! जरा आप पता कर लीजिये किसी का झुमका बरेली के बाजार मैं गिर तो नहीं गया आजकल झुमका बड़ा महंगा बन रहा है अलका जी ! रचना पर मजेदार कमेन्ट के लिए आपका हार्दिक आभार !

राजेन्द्र भारद्वाज के द्वारा
January 16, 2012

प्रिय भ्राता सचिन जी, मायावती का पर्सनल सचिव बनना तो ख़्वाब की बात है, बस उनके एक हाथी की लागत के बराबर पैसा मिल जाय तो ये जनम तो मजे में कट जायगा| किस्मत में अब यही दिन देखने तो बचे हैं| मुझे तो बस यही पंक्तियाँ याद आ रही हैं- ‘रामचंद्र कह गए सिया से, ऐसा कलयुग आएगा, हंस चुगेगा दाना-तुनका, कव्वा मोती खायेगा|’ सुन्दर हास्य के लिए बधाई|

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार प्रिय भ्राता राजेंद्र जी, सही कहा आपने, भाई मेरी तो यही शुभकामनायें हैं की आप और उन्नति करें और मुख्यमंत्री के सचिव से भी ऊँचा पद धारण करें ! आपकी मजेदार प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक धन्यबाद !

Santosh Kumar के द्वारा
January 16, 2012

सचिन भाई जी ,.सादर नमस्ते बहुत बहुत आभार आपका ..किसी के चेहरे पर हंसी लानी बहुत बड़ी बात है ,..यस डी चैनल हमेशा हँसता खिलखिलाता रहे और मंच पर हंसी फैलाता रहे यही कामना है ,…लेकिन मेरे मामले में पंचायत का फैसला गलत लिख दिया !!..लुधियाना की वर्दी उतार कर गाँव की पहनाई थी ,..वही पहन के टंगा हूँ …हार्दिक आभार

    allrounder के द्वारा
    January 18, 2012

    नमस्कार भाई संतोष जी, आपका हार्दिक आभार आपकी शुभकामनाओ के लिए जो आपने हमारे चैनल को दी हैं, भाई आपकी पंचायत का फैसला थोडा इधर – उधर हो गया उसके लिए खेद है, वर्दी चाहे कौन सी पहिन लो भैय्या एक महीना तक पंचायत का फैसला तो मानना ही पड़ेगा ! आपका हार्दिक आभार !


topic of the week



latest from jagran